himachal

Pedu : पेडू (पैछडी) क्या होते है, पुराने ज़माने के wonderful

Pedu : पेड़ू (पैछडी) क्या होते है l पेड़ू देखे ही होंगे आपने । नहीं देखें हैं तो फोटू में देखिये , ये जो बड़ी-बड़ी पानी की टंकियों की आकृति सी चीज है   – ये पेड़ू हैं ।

पेड़ू (Pedu) धान की फसल रखने के लिए

धान की फसल तैयार होते ही , पेड़ुओं की डेंटिग-पेंटिंग शुरु हो जाती है । पुराने धान निकाल लिये जाते हैं , पेड़ू अगर कहीं से टूट गया हो तो उसकी रिपेयर की जाती है फिर गोबर से लीप पोतकर इन्हें धूप में रखा जाता है सूखने के लिये ।

स्मरण रहे गांव देहात में धान को रखने के लिए पेड़ू (Pedu) प्रयोग में लाये जाते हैं , माना जाता है धान को इनमें रखने से वे खराब नहीं होते और जितना तापमान उन्हें चाहिए होता है , पेड़ू में बना रहता है ।

पेड़ू (pedu) कैसे बनाये जाते है

पेड़ू बांस के बनते हैं , और मंगलमुखियों द्वारा बनाए जाते हैं । अब तो आर्डर पर ही यदा कदा तैयार किये जाते हैं पेड़ू । एक और खास बात पेड़ुओं की कि यह घर के साथ -साथ गांव की मशीन में भी रखे जाते हैं , ज्यादातर किसान फसल को खेतों से लाकर सीधे मशीन में रखे पेड़ू में लाकर डाल देते हैं और जैसे जैसे जितनी ज़रूरत पड़ती है उतने निकाल कर कटवा लेते हैं ,खा लेते हैं ।

read story..

पेड़ू की जगह आज टंकियो ने ले ली है

भाई अब यह सब ख़त्म हो गया परिबार टूट गए अब तो हम दो हमारे एक की प्रथा हो गईं अब परिबार में 10 kg चाबल आओ खाओलेकिन आज की तारीख में इन pedu की जगह टंकियो ने ले ली l इन टंकियो में हवा भी नही लगती और अनाज ऐसे ही रह जाता है l ये जो पुराने जमाने में पेड़ू होते थे l इनमे हवा भी लगती रहती थी l और अनाज तजा भी रहता था l और इसमें अनाज काफी समय तक रखने पर भी खराब नही होता था l

आज भी बहुत सी जगहों पर अनाज इन पेड़ूओ में रखा जाता है l जिसमे कनक मक्की चावल इत्यादि शामिल है l यह हमारी प्राचीन सभ्यता का प्रतिक है l लेकिन आज की युबा पीडी ने इस सभ्यता को बिलुप्त कर दिया है l पुराने समय में जब ये पेडू (Pedu) खराब हो जाते थे तो बच्चे इन पेड़ूओ को झूले की तरह प्रयोग करते थे l इन पेड़ूओ के बीच बैठकर धक्का लगाकर गोल गोल घुमाते थे l

Tags

admin

लेखक : अजय शर्मा मुझे हिमाचल प्रदेश की न्यूज़ आप तक पहुँचाने के लिए बहुत अच्छा लगता है l हिमाचल की पल - पल की खबर इस वेबसाइट पर हिंदी में पढ़े l

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close
Close

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker